What is Internet Modem in Hindi - मॉडेम क्या है

आजकल हर Device में Internet काफी ज्यादा जरूरी हो गया है। अगर आप मोबाइल फोन की बात करें तो आप अपने मोबाइल में 1 SIM Inset करके इंटरनेट का प्रयोग आसानी से कर सकते हैं लेकिन अगर आपको कंप्यूटर या लैपटॉप में इंटरनेट का प्रयोग करना है तो आपको Modem की जरूरत पड़ेगी। आज के इस पोस्ट में हम जानेंगे कि मॉडेम क्या है और कैसे काम करता है? तो चलिए Start करते है.


What is Modem in Hindi (मॉडेम क्या है)

मॉडेम कंप्यूटर या राउटर को ब्रॉडबैंड नेटवर्क से जुड़ने वाला एक ऐसा हार्डवेयर डिवाइस है जिसकी मदद से हम कंप्यूटर में डाटा प्राप्त कर सकते हैं। यह कंप्यूटर को टेलीफोन केबल या फिर सेटेलाइट कनेक्शन के द्वारा डाटा भेजने और एक्सेस करने की अनुमति प्रदान करता है। मॉडर्न के द्वारा ही डिजिटल डाटा को एनालॉग सिगनल में बदला जाता है.
मॉडेम शब्द का निर्माण दो अंग्रेजी शब्दों से मिलकर हुआ है, पहला है Modulator और दूसरा है Demodulator, Modulator का मतलब संयोजक और Demodulater का मतलब संसूचक या पता लगाने वाला। यही काम Modem करता है.

How Modem Works in Hindi (मॉडेम कैसे काम करता है)

Modem की का करने की क्रियाविधि काफी आसान है। सरल भाषा में अगर इसके काम करने की विधि को समझाया जाए तो यह एक ऐसा माध्यम है जो हमें इंटरनेट उपयोग करने के लिए अनुमति देता है.
Modem हमारे घर में Telephone Lines, Optical Fiber, या Cable आदि के जरिये जानकारी प्राप्त करता है और इसे एक डिजिटल सिग्नल में बदल देता है। Router इस सिग्नल को कनेक्टेड डिवाइज से या तो वायर्ड केबल या वाई-फाई के माध्यम से बाहर निकालना है, जिसके जरिये आप इंटरनेट चला पाते हो यानी की मॉडेम एक माध्यम का काम करता है जो की हमारे इंटरनेट को हमारे डिवाइज तक पहुचाता है। इसके लिए वह सिग्नल प्रक्रिया का इस्तमाल करता है.

Types of Modem in Hindi (मॉडेम के प्रकार)

Duplex Modem : डुप्लेक्स मॉडेम दो प्रकार के होते हैं जिनमें से एक Half Duplex Modem होता है और दूसरा Full Duplex Modem होता है। Half Duplex मॉडेम के द्वारा केवल एक बार में केवल एक ही डायरेक्शन में ट्रांसमिशन किया जा सकता है जबकि फुल डुप्लेक्स मॉडल में अधिक डायरेक्शन में ट्रांसमिशन करना संभव है। यह 2 Wire या 4 Wire कनेक्शन के साथ उपलब्ध होते हैं.
Wire Modem : इसके नाम से ही आप समझ गए होंगे कि यह किस तरह का मॉडेम है। यह मॉडेम भी 2 Wire और 4 Wire होते है। अधिकतर घरों के लिए तो लोग 2 Wire मॉडेम का ही प्रयोग करते हैं जो कि टेलीफोन केबल के माध्यम से उपयोग किया जाता है.
Synchronous Modem : इनके लिए क्लॉक सिगनल आवश्यक होता है लेकिन यह लगातार चल रहे Data Bits के सिग्नल को हैंडल कर सकते हैं। इस मॉडेम में डेटाबेस हमेशा क्लॉक सिग्नल के साथ सिंक्रोनाइज्ड होते हैं। इसके लिए एक सेपरेट क्लॉक भी होती है.
Asynchronous Modem : यह मॉडेम डाटा बिट्स को बंद और चालू करके हैंडल करता रहता है। इसी कारण से इस मॉडल का उन्नत तकनीकों में कम ही उपयोग किया जाता है। इस तरह के मॉडल के लिए कोई भी सेपरेट टाइमिंग सिस्टम या क्लॉक नहीं होती है.

Importance of Modem in Hindi (मॉडेम क्यों आवश्यक है)

मॉडेम का मुख्य काम हमारे घर के टेलीफोन लाइन और केवल आदि माध्यमिक जरिए सिग्नल तैयार करना होता है। इसके बाद ही हम इंटरनेट का इस्तेमाल किसी तरीके जैसे ही राउटर आदि के माध्यम से कर पाते हैं। यानी कि अगर आप इंटरनेट का इस्तेमाल करना चाहते हो तो आपको मॉडेम का उपयोग करना ही पड़ेगा.
मॉडेम इंटरनल और एक्सटर्नल दोनों ही होते हैं यानी कि अगर आपका कंप्यूटर इंटरनल मॉडेम सहित नहीं है तो आपको इंटरनेट उपयोग करने के लिए एक्सटर्नल मॉडर्न चाहिए होगा जो यूएसबी या फिर अन्य माध्यमों के जरिए आपके कंप्यूटर से कनेक्ट होता है लेकिन अगर आपके कंप्यूटर में इंटरनल मॉडर्न बिल्ट है तो आप इंटरनेट का उपयोग डायरेक्ट ही कर सकते हैं.
तो दोस्तो, आज के इस पोस्ट में हमने जाना कि मॉडेम क्या है और कैसे काम करते हैं। इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर शेयर करना न भूले.

अन्य संबधित उपयोगी जानकारी:



Comments

This "GK in Hindi" website for sale : shrwanswami@gmail.com