Learn What is Printer in Hindi – प्रिंटर क्या होता है?

इस लेख में हम पढेंगे प्रिंटर के बारे में मुझसे अक्सर लोगो पूछते रहते है “प्रिंटर क्या होता है” (What is Printer), “Printer कैसे कार्य करता है” (Working Principle of Printer), “प्रिंटर कितने प्रकार के होते है और कौन-कौनसे” (Type of Printer in Hindi) आदि-आदि आज इन्हीं सब सवालों का जवाब देने के लिए मेने यह लेख तैयार किया चलिए जानते है प्रिंटर के बारे कुछ रोचक तथ्य.

What is Printer in Hindi – प्रिंटर क्या होता है पूरी जानकारी?

जब भी कोई Computer User अपने Computer के MS Word सॉफ्टवेर में कुछ भी लिखता है तो वह कंप्यूटर के Monitor दिखाई देता है अब यदि आपको वह Document एक खाली कागज पर छापना है तो यहाँ पर आपके काम आएगा प्रिंटर यानि यह एक Soft Copy से Hard Copy प्रदान करने वाला उपकरण (Device) है. इसे कंप्यूटर का Output देने वाला Device भी आप कह सकते है. जब आपका Type किया हुआ Document एक खाली कागज पर छप के प्रिंटर से बाहर आता है तो उसे आम भाषा में “Print Out निकालना कहते है?
चलिए आपने यह तो जान लिए की प्रिंटर क्या होता आइये अब जानते है प्रिंटर कितने प्रकार के होते है उनमे क्या-क्या विभिन्नतायें होती है. अगर आपने प्रिंटर के बारे में जान लिया तो यह जानना भी आपके लिए आवश्यक की प्रिंटर कितने प्रकार के होते क्योंकि यदि आपको भी कोई प्रिंटर खरीदना होगा तो आप कौनसा चुनेगे उस समय आपको मेरा यह जरुर याद आएगा तो पूरा पढ़िये (प्रिंटर कई प्रकार के होते है).

Type of Printer in Hindi– प्रिंटर के प्रकार?

Impact Printer:Impact Printer जब भी Print करता है यह Typewriter की तरह पेपर और इंक रिबिन पर दबाव डालकर प्रिंट करता है इसमें भी दो तरह के होते है:-
(I) Dot Matrix Printer : इसमें एक Print Head होता है जो इंक लगे रिबिन पर प्रहार करता है और Character उभर आते है पर यह एक बार में सिर्फ एक ही Character को प्रिंट कर सकता है?
(II) Daisy Wheel Printer : यह भी एक बार में एक ही करैक्टर प्रिंट करता है पर इसमें प्रिंट हेड की जगह Daisy Wheel लगा रहता है जो गोल-गोल घूमकर अक्षर प्रिंट करता है?
Non-Impact Printer:Non-Impact Printer में इंक का विधुत या रासायनिक विधि से छिडकाव करके प्रिंट प्राप्त किया जाता है अब इसमें भी तीन प्रकार के आते है.
(I) Thermal Printer : इसमें एक बार में एक ही Character Print किया जा सकता है ! इसमें रसायन युक्त कागज पर ताप के प्रभाव को डालकर वांछित आक्रतिया प्राप्त की जा सकती है?
(II) Inkjet Printer : इसमें स्याही की बौटल यानि Cartridge रहती है जिस पर विधुत का प्रभाव डाला जाता है और स्याही की बूंदों को इस प्रभाव द्वारा जेट की सहायता से कागज पर छोड़ा जाता है और वांछित आक्रति प्राप्त की जा सकती है?
(III) Laser Printer : इसमें Laser किरणों का प्रयोग किया जाता है ! Desktop Publishing में आमतौर पर इसी Printer का इस्तेमाल किया जाता है?
Plotter Printer:यह विशिष्ट प्रकार के प्रिंटर है इनके द्वारा चित्र, मानचित्र, नक़्शे, ग्राफ आदि को अधिक शुद्ध व तेजी से मुद्रित किया जा सकता है इसका प्रयोग सामान्यत : इंजीनियरिंग, भवन-निर्माण, मानचित्र आदि में किया जाता है.
तो दोस्त आज आपने जाना प्रिंटर के बारे में यह क्या होता है और कितने प्रकार का होता है. अब यदि आपको प्रिंटर लेने की आवश्यकता पड़ती है तो आप इनमे से अच्छा वाला अपने लिए चुन सकते है. यह लेख आपको कैसा लगा अपने विचार और सवाल हमें निचे दिए गए कमेंट बॉक्स के माध्यम से जरुर लिख भेजें हम जल्दी से जल्दी सम्पर्क करने का प्रयास करेंगे. “धन्यवाद”

तकीनीकी संबधित अन्य लेख यहाँ से पढ़ें:

Comments