आँख की संरचना, रोग और द्रष्टि दोष निवारण की जानकारी?

हेल्लो दोस्त आइये जानते हैं, आँख की संरचना इसमें होने वाले रोग और द्रष्टि दोष निवारण आदि की सामान्य जानकारी जो की आपके लिए बहुत ही उपयोगी साबित होगी?

आँख की बनावट (संरचना) कैसी है?

आँख का सबसे सामने वाला पारदर्शी कांच जैसा हिस्सा कार्निया कहलाता है ! कार्निया की पारदर्शिता (सफाई) एवं उसके आकार (गोलाई) पर हमारी नजर की सफाई एवं पैनापन निर्भर करता है ! प्रकाश की किरणें कार्निया से होते हुए आँख में प्रवेश करती है और लेंस से होते हुए अंत में रेटिना (पर्दे) पर फोकस होती है ! कार्निया की सतह पर आंसू एक महीन परत बनाकर रहते है और उसके पोषण के तत्व प्रदान करते हैं ! कार्निया में अतिसूक्ष्म नसें (नर्व) होती हैं और वे इसे शरीर का सबसे संवेदनशील अंग बनाती है ! केरेटोकोनस ऐसी बीमारी है जिसमे कार्निया की पारदर्शिता तो सही रहती है, पर उसका आकार गोलाकार की बजाई कोणाकार हो जाता है.
यह भी पढ़ें:


आँख के मुख्य रोग?

1) दूर द्रष्टि दोष: इनमे निकट स्थित वस्तुएं स्पष्ट नहीं दिखाई देती हैं, दूर की वस्तुएं स्पष्ट दिखाई देती है.
2) निकट द्रष्टि दोष (मोतियाबिंद): इनमे निकट स्थित वस्तुएं तो स्पष्ट दिखाई देती हैं परन्तु दूर स्थित वस्तुएं नहीं दिखाई देती है.
3) अबिन्दुकता दोष (आस्टिंग मेटीज्म)
4) रतोंधी (आँख का सुखापन): इसमें रोगी को रात को दिखाई नहीं देता.
5) ग्लूकोमा: आँख के लेंस में द्रव्य का प्रवाह रुकना, आँख में सुजन आना, प्रकाशीय तंत्रिका का नष्ट होना इस रोग के लक्षण है ! इस रोग में व्यक्ति के अँधा होने का डर रहता है.

द्रष्टि दोष निवारण?

1) निकट द्रष्टि दोष निवारण: निकट द्रष्टि दोष निवारण के लिए उपयुक्त फोकस दुरी के अवतल लेंस का प्रयोग किया जाता है.
2) दूर द्रष्टि दोष का निवारण: इस दोष के निवारण के लिए उपयुक्त फोकस दुरी के उत्तल लेंस का प्रयोग किया जाता है.
3) द्रष्टि वैषमय या अबिन्दुकता: इसके निवारण हेतु बेलनाकार लेंस (Cylindrical Lens) का प्रयोग किया जाता है.
4) वर्णाधता: वर्णाधता आँख की अनुवांशिक बीमारी होती है ! डेल्टोनिज्म (प्रोटेनोपिया) एक प्रकार की वर्णाधता है इसमें रोगी हरा, लाल तथा नीला रंग नहीं देख पाता.

अन्य उपयोगी जानकारी: