अरुणाचल प्रदेश की राजधानी का नाम क्या है (Arunachal Pradesh Ki Rajdhani)

आपका स्वागत है मित्र आइये "अरुणाचल प्रदेश की राजधानी" बारे में जानते हैं. इस लेख में आपको "Arunachal pradesh ki rajdhani ka name kya hai" और इससे जुडी हुई सभी प्रकार जानकारी आपको मिल जाएगी जो की आपके लिए ज्ञान वर्धक साबित होगी ऐसा मुझे विस्वास है.
आपका प्रश्न है : अरुणाचल प्रदेश की राजधानी का नाम क्या है
सही उत्तर है : ईटानगर
अरुणाचल प्रदेश की राजधानी यानि की ईटानगर शहर हिमालय की तलहटी में स्थित है. इसके साथ ही यह Papum Pare जिले में आता है. इस शहर में रहने वाली मुख्य जनजाति Nyishis या Nages है. हालाकिं यहाँ पर विभिन्न संस्कृतियों और समुदायों के लोग सामंजस्यपूर्वक रहते हैं.
इस शहर में Nyishi लोगों द्वारा मनाया जाने वाला एक प्रमुख त्यौहार Nyokum है, लेकिन जाती और जनजातियों अथवा समुदाय के लोग भी इस त्यौहार को मानते हैं. Itanagar पूर्वोत्तर क्षेत्र के उन सात राज्यों में से एक है जो भारतीय रेलवे के नक्शे पर आते हैं और एक सीधा रेलवे नेटवर्क इसे राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से जोड़ता है.

Itanagar में घुमने व् देखने योग्य Place

यहाँ के पुरातात्विक स्थल और ऐतिहासिक स्थान इस शहर ईटानगर के सामाजिक-सांस्कृतिक महत्व को उजागर करते हैं. इसी कारण से यह उत्तर पूर्व में एक आदर्श पर्यटन स्थल के रूप में देखा जाता है. इस शहर में पर्यटकों के आकर्षण के कुछ मुख्य स्थान निचे दिए गए हैं.
1) Ita Fort (ईंटों का किला): यह राज्य के सबसे प्रमुख ऐतिहासिक स्थलों में से एक है. इस नाम का मतलब "ईंटों का किला" है और इसी लिए इस शहर का नाम भी ईटानगर पड़ा है. शहर के बिच में स्थित यह किला 14 वीं -15 वीं शताब्दी की ईंटों के साथ बनाया गया है.
2) Geykar Sinyik : पिकनिक मनाने के लिए ईटानगर से छह किलोमीटर की दूरी पर स्थित यह एक सुंदर जगह है. यहाँ पर एक प्राकृतिक झील, गेयकर, कठोर चट्टानों, ऊंचे पेड़ आदि है. यहाँ पर Boating और swimming pool भी उपलब्ध हैं.
3) गोम्पा बौद्ध मंदिर: Dalai Lama द्वारा अभिषेक किया गया बौद्ध मंदिर इस शहर का सबसे सुंदर पिली छत वाला मंदिर है. मंदिर का व्यापक तिब्बती प्रभाव है और यह शहर और आसपास के ग्रामीण इलाकों का एक शानदार दृश्य प्रस्तुत करता है.
4) जवाहरलाल नेहरू Museum: यह संग्रहालय राज्य की जनजातीय संस्कृति को दर्शाता है. इसमें अरुणाचल प्रदेश की संस्कृति और विरासत से जुड़े वस्त्रों, हस्तशिल्पों, घरेलू लेखों और हथियारों का एक समृद्ध संग्रह उपलब्ध है.
5) Craft Centre और Emporium: इस शहर में यह स्थान शिल्प केंद्र और एम्पोरियम पारंपरिक सामान जैसे दीवार पेंटिंग, डाई यार्न, बेंत और बांस से उपयोगिता वस्तुओं की खरीदारी के लिए सबसे अच्छी जगह है.
इनके अलावा भी शहर में घुमने और देखने के लिए कई अन्य स्थान है जैसे बोमडिला, मालिनीथान, परशुराम कुंड आदि. यहाँ पर बजट होटल, गेस्ट हाउस और होम स्टे जैसी विभिन्न श्रेणियों में आवास सुविधाएँ उपलब्ध हैं. लोग अपने बजट के अनुसार कोई भी आवास ले सकते हैं. कई रेस्तरां भी हैं जो पारंपरिक, भारतीय, चीनी और कॉन्टिनेंटल व्यंजनों की पेशकश करते हैं.

अन्य राज्यों की राजधानी भी जानें:

Comments

This "GK in Hindi" website for sale : shrwanswami@gmail.com